ABHINAYA (अभिनय)

अभिनय मानव का प्रकृति से अटूट सम्बन्ध है । आदी काल से मानव पर उसके सामाजिक गतिविधियों का और प्राकृतिक गतिविधियों का प्रभाव रहा है । इन प्रभावों ने ही मानव संस्कृति और सभ्यता को दिशा दी है । मानव मन में उत्पन्न होने वाले भाव सभी इन प्राकृतिक एवं सामाजिक गतिविधियों के कारन है… Continue reading ABHINAYA (अभिनय)

BIBLIOGRAPHY

(Keeps updating..) 1.Kathak Nritya Parichay (Harishchandra Shrivastav) 2.Kathak Nrtya Shiksha Part1&2 (Dr.Puru Dadheech) 3.Kathak Nritya (Dr. Lakshmi Narayan Garg) 4.Nritya Kala Darpan (Ramkrishna Talukdar) 5.Tabla Taal Sangrah (Ramdas Agarwal) 6.Sangeet Parijat (Shachindranath Mitra) 7.Kathak Nritya (Prakash Narayan) 8.Taal Vigyan (Uttarakhand Open University, Haldwani) 9.Sangeet Shikshak Sandarshika (NCERT) 10.www.cosmic-dance.com

KATHAK NRITYA PRADARSHAN KA KRAM

कथक नृत्य प्रदर्शन का क्रम कथक नृत्य के हर प्रदर्शन का सर्वप्रथम ध्यय होता है कि वो सभी प्रकार के दर्शकों का मन मोह ले। साधारतया इस नृत्य को प्रस्तुत करने का एक क्रम स्थापित किया गया है। जिस किसी भी ताल में नर्तक नाच रहा है वह अपने नृत्य के अंशों को क्रमानुसार ही… Continue reading KATHAK NRITYA PRADARSHAN KA KRAM

THIRD YEAR

Third yearThird year सूचि १.कुछ पारिभाषिक शब्द २.कत्थक नृत्य के घरानों का संक्षिप्त इतिहास ३.अच्छन महाराज,शम्भू महाराज, लच्छू महाराज एवं जयलाल की जीवनी ४.तालों का पूर्ण परिचय ५.संगीत में नृत्य का स्थान ६.तबला एवं पखावज का पूर्ण परिचय ७.विभिन्न प्रश्न पत्रों के कुछ सवाल पारिभाषिक शब्द १.रेचक (rechak)- शरीर के विभिन्न अंगों को व्यवस्थित ढंग… Continue reading THIRD YEAR

Kathak mein ankhon ka mahatva

Importance of eyes in kathak कत्थक में आँखों का महत्व : भाव प्रदर्शन कत्थक नृत्य का एक अभिन्न अंग है । कत्थक शब्द की उत्पत्ति कथा से है और कत्थक नृत्य का नृत्यकार एक प्रकार से कथाकार ही है । अतएव अपनी कथा को दर्शाने के लिए नर्तक भाव का भरपूर प्रयोग करता है ।… Continue reading Kathak mein ankhon ka mahatva

GHUNGROO

कत्थक नृत्य में घुंघरू भारतीय शास्त्रीय नृत्यों में घुंघरुओं का विशेष महत्व है । नर्तक के पैरों में बंधे ,यह पदाघातों को ताल एवं लयाश्रित करने में मदद करते है । भारतीय संगीत में प्रयोग किये जाने वाले विभिन्न वाद्य यंत्रों के सूचि में भी इसे डाला जा सकता है । घुंघरू एक तरह का… Continue reading GHUNGROO